top of page
Baatein Dil Ki Season - 2
बातें दिल की Season 2 Episode - 1, इमोशनल फर्स्ट एड क्या है और कैसे किया जाए

बातें दिल की Season 2 Episode - 1, इमोशनल फर्स्ट एड क्या है और कैसे किया जाए

बातें दिल की Season 2 — अनुभवी काउंसलर द्वारा भावनात्मक स्वास्थ्य की विस्तृत जानकारी Episode 1 — इमोशनल फर्स्ट-एड क्या है और कैसे किया जाए? ----------------------------------------------------------------------------- जब हम शारीरिक रूप से घायल होते हैं, तो हम जानते हैं कि हमें क्या करना चाहिए। हमें फर्स्ट-एड करना चाहिए। लेकिन जब हम मानसिक या भावनात्मक रूप से घायल होते हैं, तो हम आमतौर पर इसे नज़रअंदाज़ करने की कोशिश करते हैं—क्योंकि हमें पता नहीं होता की क्या करना है, और कैसी प्रतिक्रिया देनी है। हम अपनी भावनाओं को दबाते रहते हैं। परंतु अनजाने में यह कई अन्य रूपों में हमारे भावनात्मक स्वास्थ्य को प्रभावित कर सकती हैं। इस एपिसोड में काउंसलर परमीत मनचंदा हमें बताती हैं कि जब हम भावनात्मक रूप से आहत होते हैं तो हमारा भावनात्मक फर्स्ट-एड क्या होना चाहिए। काउंसलर की दी गई जानकारी से आपको सहायता मिलेगी, और भावनात्मक स्वास्थ्य बेहतर होगा। इस फ़िल्म को देखें, और अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें। When we are physically hurt, we know what to do. We go for first aid. But when we are emotionally hurt, we seldom know what to do. In this episode, Counsellor Parmeet Manchanda tells us what should be our first step, our Emotional First Aid when we are hurt emotionally. Words of advice from the counsellor are sure to help in improving our emotional wellness. Please watch this film and share it with your family and friends.
बातें दिल की Season 2 Episode -  2, समानुभूति Empathy दूसरों को कैसे समझा जाए

बातें दिल की Season 2 Episode - 2, समानुभूति Empathy दूसरों को कैसे समझा जाए

बातें दिल की Season 2 अनुभवी काउंसलर द्वारा भावनात्मक स्वास्थ्य की विस्तृत जानकारी Episode 2 समानुभूति Empathy दूसरों को कैसे समझा जाए? ----------------------------------------------------------------------------- इस एपिसोड में काउंसलर निहारिका धीर हमें बताती हैं कि क्यों हमें एक ऐसा दृष्टिकोण रखना चाहिए जिससे हम औरों की भावनाओं को समझ पाएं और दूसरों की स्थिति महसूस कर सके। काउन्सलर की बातें सुन कर हम दूसरे लोगों को बेहतर समझ पाएंगे, इससे हमारी दूरी कम होगी और हमारा भावनात्मक स्वास्थ्य भी अच्छा होगा। इस फ़िल्म को देखें, और अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें। Empathy is our ability to connect and understand each other. In the second episode of Baatein Dil Ki, Season 2— counsellor Niharika Dhir from Sanjivini tells us what empathy is. And, why it is essential to have an empathetic view of situations, to understand things from someone else's perspective, and to feel their emotions. This would bring us closer to people and our emotional wellness would thrive. Please watch this film and do share it with your friends and relatives.
बातें दिल की Season 2 Episode - 3,  Self Worth अपनी वैल्यू कैसे जानें

बातें दिल की Season 2 Episode - 3, Self Worth अपनी वैल्यू कैसे जानें

बातें दिल की Season 2 अनुभवी काउन्सलर द्वारा भावनात्मक स्वास्थ्य की विस्तृत जानकारी Episode 3 Self-Worth अपनी वैल्यू कैसे जानें ---------------------------------------------------------- अनुभवी काउंसलर पारुल पाराशर हमें बताती हैं कि अपनी खुद की वैल्यू (Self-Worth) को कैसे जानें और कैसे हम इसे हेल्दी रख सकते हैं । काउंसलर के साथ ये महत्वपूर्ण दिल की बातें हमारा भावनात्मक स्वास्थ्य बेहतर करेंगी। इस फ़िल्म को देखें, और अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ शेयर करें। How much do we value ourselves? Do we feel we are worthy of love, happiness, and respect? In this episode of Baatein Dil Ki, experienced counsellor Parul Parashar helps us in understanding our Self-Worth and how to enhance it. Words of wisdom from the counsellor will make us better human beings and improve our emotional wellness. Watch this film and share it with your family and friends.
बातें दिल की Season 2 Episode - 4, Marriage in the times of covid वैवाहिक जीवन पर कोविड का असर

बातें दिल की Season 2 Episode - 4, Marriage in the times of covid वैवाहिक जीवन पर कोविड का असर

बातें दिल की Season 2 अनुभवी काउन्सलर द्वारा भावनात्मक स्वास्थ्य की विस्तृत जानकारी Episode 4 Marriage in the times of covid वैवाहिक जीवन पर कोविड का असर ---------------------------------------------------------- हमारे वेवाहिक जीवन पर कोविड का क्या प्रभाव पड़ा और लॉकडाउन के टाइम में घर में बंद होने के कारण पति-पत्नी के संबंध कैसे बदल गए ? संजीवनी से काउंसलर परमीत मनचंदा हमें बताती हैं कि पति-पत्नी तनाव को कैसे दूर करें और अपना भावनात्मक स्वास्थ्य बेहतर करें । इस फ़िल्म को देखें, और अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ अवश्य शेयर करें। What was the impact of Covid on our married lives and how relationship between spouses changed with the lockdown-imposed confinement? In this episode, Sanjivini Counsellor Parmeet Manchanda tells us how married couples can re-examine stress points in their relationship to avoid unnecessary conflict and improve their emotional wellness. Watch this film and don’t forget to share it with your family and friends.
बातें दिल की Season 2 Episode -5, Breakup रिश्ता टूटने पर कैसे संभलें

बातें दिल की Season 2 Episode -5, Breakup रिश्ता टूटने पर कैसे संभलें

बातें दिल की Season 2 अनुभवी काउन्सलर द्वारा भावनात्मक स्वास्थ्य की विस्तृत जानकारी Episode 5 Breakup रिश्ता टूटने पर कैसे संभलें? ---------------------------------------------------------- रिश्ते का खत्म होना अपने आप में एक दर्दनाक अनुभव होता है। और कई बार व्यक्ति पूरी तरह से टूट जाता है। संजीवनी से काउंसलर नीलम अग्रवाल हमें बताती हैं कि ब्रेकअप होने पर बिखरते हुए खुद को कैसे संभालें और इस दर्द से कैसे उभरें ताकि जिंदगी में हम आगे बढ़ें और अपना भावनात्मक स्वास्थ्य भी मजबूत करें। इस फ़िल्म को देखें, और अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ शेयर करें। Breakup in relationship is a painful experience and very often the person involved is completely shattered. In this episode, Sanjivini Counsellor, Neelam Agarwal tells us how to pull the broken self together and recover from the agony of a breakup and move ahead in life, while becoming stronger. Emotionally. Watch this film and don’t forget to share it with your family and friends.
बातें दिल की Season 2 Episode -6, Caregivers देखभाल करने वाले अपना ख्याल कैसे रखें

बातें दिल की Season 2 Episode -6, Caregivers देखभाल करने वाले अपना ख्याल कैसे रखें

जो लोग अपने घर में किसी बीमार व्यक्ति की देखभाल कर रहे हैं, वो अपना ख्याल कैसे रखें? खासकर तब जब वो किसी ऐसे व्यक्ति के केयरगिवर हैं, जिसे मानसिक बीमारी है। संजीवनी काउंसलर पारुल पराशर बताती है, कि केयरगिवर अपनी खुद की देखभाल कैसे करें, जिससे उनका भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य ठीक रहे। इस फ़िल्म को देखें, और अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ शेयर करें। Taking care, especially of mentally ill patients at home can be a very challenging task. Many times the caregivers themselves burn out emotionally and physically. Sanjivini Counsellor, Parul Parashar explains how caregivers can learn to be more mindful of their own stress, and by finding a healthy middle ground between sacrifice and selfishness they can help themselves. Please watch this film and share it with your family and friends.
बातें दिल की Season 2 Episode - 7, Grieving— दुःख कैसे व्यक्त करें

बातें दिल की Season 2 Episode - 7, Grieving— दुःख कैसे व्यक्त करें

दुःख कैसे व्यक्त करें? शोक / दुःख, हानि या नुकसान की स्वाभाविक प्रतिक्रिया है। यह वो कष्ट हैं जिसे हम महसूस करते हैं जब हमसे कोई व्यक्ति या कोई चीज़ जिसे हम प्यार करते हैं ,चला जाता है। संजीवनी काउंसलर, ममता वैश शोक व्यक्त करने की प्रक्रिया के बारे में बताती हैं कि कैसे हम इस दर्द का सामना करें—अपने आप को संभाल कर अपनी ज़िन्दगी को आगे बढ़ाये, और अपने भावनात्मक स्वास्थ्य का ध्यान रखें। इस फ़िल्म को देखें, और अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ शेयर करें। Grief is a natural response to loss. It is the emotional pain we go through when something or someone we love is taken away. Even subtle losses in life can trigger a sense of grief. Sanjivini Counsellor, Mamta Vaish explains the grieving process and ways to help cope with the pain. Please watch this film and share it with your family and friends.
बातें दिल की Season 2 Episode -8, Parenting अच्छी परवरिश कैसे करें

बातें दिल की Season 2 Episode -8, Parenting अच्छी परवरिश कैसे करें

अच्छी परवरिश कैसे करें हर पीढ़ी में बच्चों और माता पिता के बीच हमेशा कुछ ना कुछ अनबन लगी रहती है। ऐसे अगर कोई issues हों तो हम कैसे उन्हें resolve करें? अपने बच्चों को कैसे समझने की कोशिश करें? संजीवनी काउंसलर सिमी हंसपाल हमें बताती है कि अच्छा पालन-पोषण क्या है। इसकी क्या परिभाषा है, और अपने बच्चों की परवरिश कैसे करें जिससे वह जीवन में सफल और एक अच्छे इंसान बनें । इस फ़िल्म को देखें, और अपने परिवार एवं दोस्तों के साथ शेयर करें। Raising a happy, healthy child is one of the most challenging jobs a parent can have—and it is also one of the most rewarding. Sanjivini Counsellor Simi Hanspal tells us what good parenting is, its boundaries and gives us tips on how to raise our children to become good human beings, and also become successful in life. Please watch this film and share it with your family and friends.